Art / Arte / Arto / चित्रकला

चित्रकलाचित्रकला . Art . Arte . Arto . Seni

कलाकार प्रकृति का प्रेमी है अत: वह उसका दास भी है और स्वामी भी।”
रवीन्द्रनाथ ठाकुर

चित्रकारी सिर्फ एक डायरी रखने का एक और तरीका है।”
पाब्लो पिकासो

कवि और चित्रकार में भेद है । कवि अपने स्वर में और चित्रकार अपनी रेखा में जीवन के तत्व और सौंदर्य का रंग भरता है।”
डा रामकुमार वर्मा

फाइन आर्ट्स : ऐब्स्ट्रैक्ट आर्ट, फिगरेटिव आर्ट, मॉडर्न आर्ट, न्यूड आर्ट, पोर्ट्रेट आर्ट

About HtmLinking.com

Surinder Singh ( 91-9971008151) New Delhi, India. ~ Logo, Graphics & Website Designer ~ Web Developer & Webmaster ~ Link Building & SEO http://www.HtmLinking.com http://www.surinder-singh.com
यह प्रविष्टि कला में पोस्ट और , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , टैग की गई थी। बुकमार्क करें पर्मालिंक

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s